सपना मुल्ला नसरुद्दीन का

0
1047

मैंने सुना, मुल्ला नसरुद्दीन अपने मित्र से बातें कर रहा था। मुल्ला ने कहा: रात बड़े गजब का सपना देखा। सपना देखा कि पेरिस गया हूं और वहां के सब से बड़े जूए के अड्डे में खूब डटकर शराब पी है और जूआ खेल रहा हूं, लाखों रुपए जीत रहा हूं।

मित्र ने कहा: मुल्ला, यह कुछ भी नहीं। मैंने भी रात सपना देखा कि हेमामालिनी को लेकर एक एकांत निर्जन द्वीप पर चला गया हूं। वहां कोई भी नहीं। हम काफी गुलछर्रे उड़ा रहे हैं।

मुल्ला ने कहा: अरे, तुम मुझे क्यों नहीं ले चले साथ?

मित्र ने कहा: मैंने तो तुम्हारे घर फोन किया था, लेकिन तुम्हारी पत्नी ने कहा कि तुम पेरिस गए हो।

अजहूं चेत गंवार, प्रवचन # १५

ओशो