मित्रता

0
1640

“इस संसार में मित्रता शुद्धतम् प्रेम है, मित्रता प्रेम का सर्वोच्च रूप है जहां कुछ भी मांगा नहीं जाता, कोई शर्त नहीं होती, जहां बस दिया जाता है।”

“गुरू हमेशा एक मित्र होता है लेकिन उसकी मित्रता में बिलकुल अलग सी सुगंध होती है। इसमें मित्रता कम मित्रत्व अधिक होता है। करुणा इसका आंतरिक हिस्सा होती है। वह तुम्हें प्रेम करता है क्योंकि और कुछ वह कर नहीं सकता। वह अपने अनुभव तुम्हारे साथ बांटता है क्योंकि वह देख पाता है कि तुम उसे खोज रहे हो, तुम उसके लिये प्यासे हो। वह अपने शुद्ध जल के झरने तुम्हारे लिये उपलब्ध करवाता है। वह आनंदित होता है और अनुग्रहीत होता है यदि तुम उसके प्रेम के, मित्रता के, सत्य के उपहार स्वीकार करते हो।”