जीवन जीने की कला

0
3978

जीवन को एक कला समझो । और कला की कुंजी यही है :
रातो को दिन बनाओ, अंधेरो मे दीये जलाओ, शोरगुल मे भी संगीत खोजो ।
और तब तुम मिट्टी भी छुओगे, तो सोना हो जायेगी ।
और जहर तुम्हारे पास जैसे- जैसे आयेगा, वैसे- वैसे अमृत होने लगेगा ।
तुम्हारे भीतर पहुचते- पहुचते अमृत हो जायेगा ।

— x — x — x — x — x — x — x — x —

जीवन तो जायेगा इसलिए जी लो
अगर ना भी जियोगे तो भी मौत तो आएगी ही!